Maharashtra Board: Maharashtra SSC Result 2021: शिक्षा मंत्री ने बताया मूल्यांकन का पूरा तरीका, जानें आपको कैसे मिलेंगे मार्क्स – maharashtra class 10 marking scheme released, msbshse ssc result evaluation criteria

हाइलाइट्स:

  • महाराष्ट्र बोर्ड ने जारी की 10वीं कक्षा के मूल्यांकन की डीटेल
  • शिक्षा मंत्री ने बताया किस आधार पर मिलेंगे कितने अंक
  • 30 जून तक सभी स्कूल्स को भेजने हैं मार्क्स

Maharashtra Board class 10 marks, evaluation kaise hoga?महाराष्ट्र बोर्ड 10वीं कक्षा के स्टूडेंट्स के लिए रिजल्ट की जरूरी जानकारी आ गई है। महाराष्ट्र सरकार (Maha Govt) ने क्लास 10 बोर्ड मार्किंग स्कीम की डीटेल जारी कर दी है। राज्य की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ (Varsha Gaikwad) ने ट्वीट कर इस बारे में सूचना दी है। बताया है कि महाराष्ट्र एसएससी रिजल्ट (Maharashtra SSC Result) के लिए मूल्यांकन की पूरी प्रक्रिया क्या होगी।

सरकार ने महाराष्ट्र बोर्ड (MSBSHSE) से मान्यता प्राप्त सभी सरकारी व निजी स्कूल्स को निर्देश दिया है कि वे तय क्राइटीरिया के तहत मार्किंग करके 30 जून 2021 तक सभी स्टूडेंट्स के मार्क्स बोर्ड को भेज दें। इन मार्क्स के आधार पर एसएससी रिजल्ट बनाने की प्रक्रिया 03 जुलाई 2021 से शुरू कर दी जाएगी।

Maharashtra 10th Board Result: किस तरह होगी मार्किंग
बोर्ड व सरकार द्वारा तय इवैल्युएशन क्राइटीरिया के अनुसार, 10वीं बोर्ड स्टूडेंट्स को कक्षा 9वीं व 10वीं में उनकी परफॉर्मेंस के आधार पर मार्क्स दिये जाएंगे। कुल 100 अंकों का मूल्यांकन होगा। इनमें से 50 अंक क्लास 9 की परफॉर्मेंस के आधार पर मिलेंगे। जबकि बाकी के 50 अंक में से 30 अंक 10वीं में सालभर होने वाले इंटरनल असेसमेंट्स के आधार पर और शेष 20 अंक प्रैक्टिकल्स, होमवर्क और असाइनमेंट्स के लिए होंगे।

ये भी पढ़ें : Fit India Quiz 2021: स्कूल स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन क्विज कंपीटिशन, 3 करोड़ रुपये तक इनाम

वीडियो से समझें कैसे होगा मूल्यांकन
महाराष्ट्र बोर्ड ने 10वीं रिजल्ट 2021 (Maha ssc result 2021) के लिए मूल्यांकन प्रक्रिया कैसे करनी है, इसे एक वीडियो के माध्यम से समझाया है। यह वीडियो बोर्ड की वेबसाइट mahasscboard.in पर अपलोड किया गया है।

ये भी पढ़ें : QS Ranking 2022: ये हैं दुनिया की टॉप 10 यूनिवर्सिटीज़, देखें भारत के बेस्ट इंस्टीट्यूट्स की भी लिस्ट

साथ ही वर्षा गायकवाड़ ने कहा है कि ‘एक निष्पक्ष मूल्यांकन के लिए स्कूल हेड पूरी प्रक्रिया अच्छी तरह पढ़ें और उसका पालन सुनिश्चित करें। यह मूल्यांकन में लगे हर शिक्षक की भी जिम्मेदारी है। यह कार्य चुनौतीपूर्ण है, लेकिन मुझे यकीन है कि स्कूल और टीचर्स इस पूरी प्रक्रिया को उच्च गुणवत्ता के साथ पूरा करेंगे।’

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *